शुक्रवार, नवंबर 30, 2012

क्या तू मेरा और मैं तेरा - An honor killing

वो गलियाँ जो कभी हाथ पकड़ कर मेरा,
मुझ में समां जातीं थीं, कहतीं थीं मुझे
कि वो मेरी और मैं हूँ उनका।

आज लौटा हूँ शहर कई अरसे बाद जब,
हर गली, हर चौराहे, हर इमारत पे,
एक अजीब सा, बदरंगी, मटमैला सा 
नकाब चढ़ा है। 
क्या ये तू ही है जो कहता था कि 
तू मेरा और मैं हूँ तेरा।

पहुंचा गली में अपनी मैं जब,
मूह कुछ इस कदर फेर लिया 
मानो कोई बदतमीज़, बेगैरत 
घुस आया है।
क्या ये तू ही है जो कहती थी कि 
तू मेरी और मैं हूँ तेरा

पहुंचा घर में अपने मैं जब,
अन्धयारी तब छाई थी , सन्नाटा वो ले आई थी,
आँगन में कुछ छींटे थे, दीवारों पे रेले थे,
क्या तू वो ही घर है जो कहता था कि 
तू मेरा और मैं हूँ तेरा।

--नीरज

10 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर रचना है नीरज जी....
    एहसासों की सहज और कोमल अभिव्यक्ति....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bahut bahut shukriya Rashmi ji meri kritiyon ko itni sundar kritiyon ke saath shaamil karne ke liye. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. Shukriya anu ji, accha laga jaankar ki aapko ye kriti pasand aayi. Aate rahiye :)

    उत्तर देंहटाएं


  4. क्या ये तू ही है
    जो कहती थी कि -
    "मैं तेरी हूं … और तू मेरा !!"
    आह !
    नीरज जी
    एहसासात को झकझोरती हुई इस रचना ने दिल छू लिया है …
    बहुत मार्मिक !

    …आपकी लेखनी से श्रेष्ठ सुंदर भावप्रवण रचनाओं का सृजन ऐसे ही होता रहे …
    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut bahut shukriya Rajendra ji jo ye rachna aapke dil ko chukar guzri aur shubhkaamnaon ke liye :)

    Aate rahiye :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर भावपूर्ण रचना,,,

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.