मंगलवार, फ़रवरी 03, 2009

मिट्टी का घर

ये कविता समर्पित है मेरे स्वर्गीय दादाजी एवं दादीजी को जिन्हों ने ये घर बनाया था और मैंने और मेरे भाइयों ने कई गर्मियों की छुट्टियाँ उनके साथ यहाँ पर बितायीं.
************************************************************************************

पौ फटा करती थी फ़िर एक नई सुबह हुआ करती थी,
श्वेत किरणों, बैलों की घंटी से फ़िर एक उज्वल दिन की शुरुआत हुआ करती थी !

खाट पे सोया करते थे, कम्बल को ओड़ा करते थे,
जाड़ा सुबहे बहुत सताता था, तब चाय का प्याला याद आता था !
कुँए पे नहाया करते थे, इमली पे खेला करते थे,
ज्यों-ज्यों दिन ढलता जाता था, कृष्ण धवल को ग्रस्ता था !
संध्या प्रभात का मंज़र फ़िर दोहराती थी,
घंटियों का स्वर, धूल का गुबार वो घर फ़िर महका देती थी !
वो घर था मिट्टी का, छप्पर की थी छत....!

पर अब ये मंज़र बस एक सपना है, वो घर अब न अपना है,
वीरान पड़ा है वो घर अब भी, उस घर में अब शाम ढली है !
लौटा नहीं है कोई मवेशी, घंटी का स्वर वीरान पड़ा है !
लीपा करतीं थीं दादी जिसको, तीन कमरे और एक रसोई थी जिस में,
अब आधी दीवारें खड़ी हुईं हैं, आँगन भी वीरान पड़ा है !

पौ फटती नहीं है, रात जाती नहीं है,
वीरान पड़ा है, थका खड़ा है,
वो मिट्टी का घर, बिन छप्पर की छत !!!

------- Written on 20/11/2003

अनगिनत यादें अब भी दफन हैं इस मकान के आघोष में, जो बाहर चबूतरा और एक कमरा था, सुना है अब वहां पर कोई राहगीर नहीं बैठा करता, वहां से गुज़र कर सड़क अब शहर को जाया करती है!
और 5 मीटर मोटा इमली का पेड़ भी नसतो-नाबूत हो चुका है, कुछ लकडियाँ गांवों के घरो में जल चुकी हैं तो कुछ शहर के बाज़ार में बिक चुकी हैं !

---- नीरज भार्गव

3 टिप्‍पणियां:

  1. wah neeraj ji sachmuch apki is rachna ne mujhe apne bichde lamhe yaad dila diye ... bahut hi sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  2. नीरज जी भावों का बहुत ही सही चित्रण किया आपने
    चूकीं मेरी भी पृष्ठभूमि आपके जैसी है, इसलिए अपने आप को आपकी रचना से जोड़ पाया
    बहुत ही उम्दा भाव

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.