रविवार, दिसंबर 27, 2009

काश के चाँद मेरी शर्ट का बटन होता



काश के चाँद मेरी शर्ट का बटन होता, मैं रो़ज़ उससे तोड़ता तू रोज़ उसे सीती,
यूँही सिलसिला सालों चलता, ये अमावस यूँही इतनी लम्बी न हुई होती....

मखमली पंखुडी गुलाब की गर पलकों पे न सजी होती तेरे,
नज़रें हमसे भी किसी रोज़ टकराई होतीं यूँ काटों में न फंसी होती.

झुरमुट में कहीं एक पत्ते पे पड़ी ओस की बूँद से लब तेरे थर-थराते हैं,
मुस्कुराती तू अगर तो ओस की बूँद मेरे लबों को छूके गुज़री होती.

गुलशन में हजारों के बीच तू अध्खिले गुलाब सी मिली थी तब,
होती तू अगर, ज़िन्दगी मेरी मेह्कार-ए-गुलिस्तान बन महकी होती.

आंचल से तेरे ऊंघते, झांकते, जगमगाते सितारे सभी,
आते कभी ज़मी पर मेरी तो इस आशियाने में भी रौशनी होती.


--नीरज

8 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर प्रस्तुति जज्बातों की

    उत्तर देंहटाएं
  2. सराहने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया अजय जी.... :)
    आते रहियेगा. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. kya baat hai neenu.....chand ka button.....uspe black holes ke ched aur comet ki pooch ka dhaga banao aur sil lo apne shirt pe aur khush ho jao...kya soch hai...

    jo bhi hai acchi hai appki kavita...

    उत्तर देंहटाएं
  4. waaaahh waaaahh waaaaahh ! bahaut badhiya ......

    har ek aasahar bahut bahut sunder hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. @Mou, Ranjana ji aur Vandana -

    Aap sabhi ka bahut bahut shukriya yahan aane ka aur meri kriti ko sarahne ka. :)

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.