रविवार, मार्च 28, 2010

निशाँ उनके


वो चल दिए यूँ हम से हाथ छुड़ाकर,
दूर तक तकते रहे हम निशाँ उनके.
सोचा कभी मिलजायेंगे राह में इक रोज़,
दर-बदर ढूंढते रहे हम निशाँ उनके.

रात की वीरानिओं में खो गये जाने कहाँ,
चाँद भी पहचान न पाया निशाँ उनके.
नीर से गुजरी है वो कुछ इस कदर देखो,
वहां भी मिल न पाए निशाँ उनके.

--नीरज

10 टिप्‍पणियां:

  1. waahh ji waah kyaa baat kahi hai janab:) par yaar ye pic bilkul acchi nahi lag rahi seriusly majak nahi kar raheen hoon :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. @Sameer sir - Bahut bahut shukriya sir, aap ko nazm pe dekh kar accha lagta hai. Aate raha kariye... :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. aaj bahut dino baad aana hua aapke blog par....kaafi rachnaaye padhi...samvednaao ko bayan bakhoobi karte hain aap

    sach sikkon ke khatir zindgi bhaagti rahti hain

    उत्तर देंहटाएं
  4. @Priya Ji - Bahut bahut shukriya jo aapne mere blog ko apna samay diya. :)

    Sahi mein har koi bhookh mitaane k peeche hi to bhaag raha hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.