बुधवार, मार्च 31, 2010

छाले



कुछ नन्हे हाथों को आज हाथ छुडाते देखा है,
उन कोमल हाथों पे छालों का एक गुलदस्ता देखा है.
तपती कंकरीली धरती पे दिन भर रेंगते देखा है,
खाने के चंद निवालों पे मैंने उनको पिटते देखा है.

भूख मिटाने की खातिर यहाँ रूह नाचती देखी है,
हर गाडी में झांकती उनकी आस टपकती देखी है.
हंस कर जीने की आशा को आंसू में बहती देखा है
एक सिक्के की खातिर मैंने ज़िन्दगी भागती देखी है

--नीरज

24 टिप्‍पणियां:

  1. चित्र और कविता दोनों हौलनाक हैं , इतनी दर्दनाक स्थिती में भी कोई जागता नहीं और इस मार्मिक्ता की तर्फ़ तो कोई देखना भी नहीं चाहता ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हृदय में संवेदनाओं को झकझोरती रचना!
    बहुत बारीक विश्लेषण प्रस्तुत किया आपने.....
    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  3. hmmm speechless yaaar ..:)
    pata nahi kitna masoomo ke chehre aankho k aage se gujar gaye ...:(

    good job ...clap for ur view ..:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. @Seema Ji - Bahut bahut shukriya dard ko samajhne ke liye. Yehi to samasya hai ki koi bhi in cheezon ko dekhna aur iska nivaran nikaal na nahin chahta, par dutkaarna sab jaante hain aur chaahte hain.
    Aate rahiye ga... :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. @Kunwarji - Accha laga jaan kar ki ye kriti aapke dil tak pahunchi, Umeed karta hun baaki logon ke dil tak bhi pahunche aur aise kayi bacchon ki haalat mein hum log sudhaar la sakein.
    Bahut bahut shukriya aane ka aur sarahne ka.
    Aate rahiye ga... :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. @Vandana - Thanx a lot yaar for coming and understanding the pain of these kids.

    उत्तर देंहटाएं
  7. भुत मार्मिक चित्रण.. संवेदनशील रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  8. @Sangeeta Masi - Dhanyavaad maasi dard ko samjahne ke liye. :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. भूख इंसान से क्या क्या नहीं करवाती.. बहुत सही लिखा है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. @Kush Ji - Bahut bahut shukriya aane k liye aur dard ko samajhne k liye.

    उत्तर देंहटाएं
  11. kya likhun samajh nhi pa rhr hun. sirf yaad aa rha hai aahluyaliya ji ka filasfi 32 rupaye yala. yo bachhi kis class mai aati hai.

    उत्तर देंहटाएं
  12. chitra dikhkar apni bhawnao ko kya khoob prakat kiya he, bus yahi hamare desh ka durbhagya hai kahi khana khane ke liye sone ke bartan hote he to kisi ko kagaj ka tikda bhi naseeb nahi hota.

    उत्तर देंहटाएं
  13. Bohot accha likha hai aur Sahi bhi hai, lekin sirf kavitaon se unke prati pyar dikhana aur sachmuch unke liye kuch karna dono mein fark hai. Agar itna daya ya pyar ata hai unpe to sirf ek bacche ko ghar le aao aur usko padhao to janu. Logo ko shayad ye lagta hoga sirf ek ko ghar lake kya hoga, hone pe to aise hazar bacche hain. Mein ye bolti hoon har koi agar ek bhi baccha apne sath le aye to kya badlao nahi ayega?

    उत्तर देंहटाएं
  14. चित्र और कविता दोनों हि दिल को द्हेला देते हैं।
    संवेदनशील मन को जड से हिला देनेवाले शब्दों का बहुत हि मार्मिक और सही प्रयोग किया हैं आप ने।

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.