शनिवार, अप्रैल 24, 2010

ये रात है बड़ी





ये रात है बड़ी, मंजिल कहीं नहीं.
यहाँ काफिले बहुत, माज़ी कहीं नहीं.

इस खुदाई रात में हम आसमां देखते रहे,
कुछ तारे जगमगाते रहे कुछ यूँही टूटते रहे.
ये रात है बड़ी, मंजिल कहीं नहीं.
यहाँ काफिले बहुत, माज़ी कहीं नहीं.

उफक तक देखते रहे रास्ता तेरा,
अँधेरा कर गया बस फासला तेरा.
ये रात है बड़ी, मंजिल कहीं नहीं.
यहाँ काफिले बहुत, माज़ी कहीं नहीं.

--नीरज

20 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर रचना ! नीरज जी आपकी कुछ रचनाएँ आज पहली बार पढ़ी है पढ़ कर अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  2. @Nilesh ji - Bahut bahut shukriya apna keemti samay mere blog ko dene ke liye aur sarahne ke liye.
    Aate rahiye ga. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर...पसंद आई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ तारे जगमगाते रहे कुछ टूटते रहे..
    कमाल का थोट है.. ! बहुत शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  5. एहसास बहुत खूबसूरती से लिखे हैं....सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  7. aaj pahli baar padhi maine aapki rachna,
    sukhad anubhav raha...
    kafi achi lagi ye nazm.
    'apni bhavnao ko yu hi shabdo me pirote rahe,
    aage bhi aise hi likhte rahe'
    #ROHIT

    उत्तर देंहटाएं
  8. हमेशा की तरह उम्दा रचना..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. @Sanjay Ji - Bahut bahut shukriya baahvon ko samajh ne ke liye aur aane ke liye... :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. @Rohit ji - Bahut accha laga ki aapko ye nazm pasand aayi. Aane k liye aur sarahne ke liye shukriya. Aate rahiyega... :)

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.