गुरुवार, सितंबर 10, 2009

** हाइकु **

महताब है
मोहब्बत मेरी.
दूर मुझसे.

***************

ज़मीन गीली,
अजीब सी खामोशी....
बिखरे मोती.

--नीरज

8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! जी छोटी है पर अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके ब्लोग पर पहली बार आया ......आपकी रचनाओ से बहुत ही प्राभावित हुआ......बेहद ही खुबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. kya baat hai haaiku
    waah maine kabhi nahi likhe itni kam shbdon mein baat kahna aasaan nahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. ye haiku to bahut hi badiya lage lekin tumhare explaination k baad haha

    उत्तर देंहटाएं
  5. @ All -

    Aap sabhi ko sarahne ke liye tahe dil se bahut bahut shukriya.
    Aate rahiye... :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. दूसरा हाइकु निहायत ही खूबसूरत लगा..आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.