मंगलवार, मई 25, 2010

हम



कुछ ख्वाब तुमने बुने थे,
कुछ मैंने, कुछ हमने
और कुछ अध्बुने ही रह
गये थे वक़्त की मेज़ पे.
तुम वो खवाब मुझ से और
मैं तुमसे मांगता रहा,
आज जब कई साल बाद
मैंने महसूस किया कि वो
न तुम्हारे पास थे और न मेरे,
वो ख्वाब आज भी वक़्त की मेज़
पर महफूज़ उसी करवट सोये हुए हैं.
अफ्सोस इस ज़िन्दगी की दौड़
में हम एक दुसरे से बहुत
दूर निकल आये हैं.
अब न तुम हो, न मैं,
न वक़्त और न ही हम.

--नीरज

11 टिप्‍पणियां:

  1. @Swapnil - Shukriya pandit ji....hum dhanya hua jo aapne darshan diye.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. woooww ...bahut sunder ,...sach ek dam khvaab kabhi bhi bantkar bhi nahi batte :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bahot badhiya lagi poem.. Bilkul dil ko chhuti huyi.. kavita me kavitva ka bhaav geet jaisa hai.. mano gulzaar ka geet sun rahe hon. Bahvuk nazm!
    meri bhi ek kavita hai kuchh isi tarah ki nabz thaame huye, wo padhaungi.. "Ek Akhiri Khat Tumhare Naam" kar ke hai.
    ~ MS

    उत्तर देंहटाएं
  4. Meri ek tippani to jaane kahaan gayi! Par ye doosri likh rahi hoon kyunki mujhe ye kavita bahot pasand aayi,.. iska kavitvqa bhav geet jaisa hai aur bhavuk kar deta hai. Sundar shabdon me aapnedard ki lakeeren kheenchi hain mano ki koi khoobsurat painting ho ek chup se dard ko ukerte huye. bahot khoob!

    उत्तर देंहटाएं
  5. @Pari - Bahut bahut shukriya aane k liye aur do baar sarahne k liye....hehehehe
    Acha laga jaan kar ki ye kavita aapke dil ko kahin chuke guzri, aate rahiye ga... :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut hi lazwab kavita sach padh k man tript ho gya.

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.