बुधवार, मई 26, 2010

तन्हाई



ए कलम काश मेरा भी कोई तेरे
कागज़ की तरह हमदम होता,
मेरे दिल से उमड़ती स्याही को
मैं किसी से तो बाँट पाता.

ए आंसू काश मेरा भी कोई तेरे
गाल की तरह हमराज़ होता,
मेरे बिखरते मोतिओं को
यहाँ कोई तो समझ पाता.

ए धरती काश मेरा भी कोई तेरे
आसमां की तरह हमजाद होता,
मेरी आग सी तपती रूह को
कोई तो ठंडा कर पाता.

--नीरज

15 टिप्‍पणियां:

  1. पहली बार आया था आपके ब्लॉग पर तब से ही लगा .......बहुत सराहनीय प्रयास ...अभी अच्छा लिखते हो ....लिखते रहोगे तो और अच्छा लिख पाओगे ,,,मेरा आशय यही है ..की बस अनवरत प्रयास करते रहिये ...अगर आप यूँ ही प्रयास करते रहे तो आपको खुद को महसूस होने लगेगा की आपकी लेखनी पहले से कई ज्यादा निखर रही है ...पर निरंतर चिंतन और लगन की आवश्यकता है ...लगन आप में है ....( आपकी रचना में दिखता है ) तो सोचने की क्षमता में अनायास ही प्रसार होगा ,,,,,रही बात टिप्पणियों की ....वो आये या ना आये ....आपको लेखन से सुकून अवश्य मिलेगा ....कुछ दिनों में टिप्पणिया बढ़ने लगेंगी ...अगर किसी की भी टिपण्णी देखे तो ८०% फिजूल होती है ....कई बार टिपण्णी केवल निमंत्रण ( अपने ब्लॉग पर ) के लिए दी जाती ..अगर आपको कोई सुझाव दे तो उस पर अमल करे .....एक दिन आपको मंजिल ..करीब नज़र आएगी ...अब जरूरत है सयंम की ....वो रहा तो ..समझो मंजिल मिल गयी .....और फिर हमारी शुभकामनाये हमेशा आपके साथ है ,,,,,,बस यही कहना है ..अगर किसी भी प्रकार की कोई ...समस्या हो तो हिन्दी ब्लॉग पर आपका एक भाई सदैव तैयार है ....निसंकोच कहे .....आपके सुखद भविष्य की उम्मीद के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  2. नीरज जी आपने बहुत सुंदर लिखा है ...कई जगह टाइपिंग में गलती लग रहीहै 'पाता' 'पता' हो गया है

    उत्तर देंहटाएं
  3. ahut khoob sir Rajendra ji ki baat par gaur kijiyega

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत भावपूर्ण लिखा है..अकेलेपन का दर्द बांटती कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अकेलेपन का दर्द बांटती कविता.
    खूब अभिव्यक्त किया है भावों को .

    उत्तर देंहटाएं
  6. काफी सुन्दर शब्दों का प्रयोग किया है आपने अपनी कविताओ में सुन्दर अति सुन्दर.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. कविता के माध्यम से गहरी बात कही ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  8. sabke saathi hai bas mujhe koi nahi mila .......bahut achche se abhivayakt kiya hai

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut sundar rachana shabdon ke chayan bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  10. @Ana Ji - Bahut accha laga jaan kar ki aap ko rachna pasand aayi. :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. Neeraj ji...Akelepan ka dard mehsus kiya humne..bahut achhi rachna..badhai.

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.