रविवार, जनवरी 10, 2010

याद





वो मंज़र कभी याद आते हैं ,
कभी आँखों से बरस जाते हैं.

रह जाते हैं ठहर कर गालों पर,
मुस्कान बन बिखर जाते हैं.

दिन भर रहते हैं संग मेरे,
रात में तारे बन जगमगा जाते हैं.

चुभते हैं दिन भर दिल में मेरे,
रात होते ही महेक जाते हैं.

उठते हैं अंगार बनके ज़हन में,
राख बनके बिखर जाते हैं .

--नीरज



10 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरती से लिखे हैं एहसास .....

    यादों को हमेशा जगमगा कर रक्खो
    अंगार बने भी तो उन्हें जला कर रखो....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढिया अभिव्यक्ति । बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahuuuuuuuuuuuuuuut khooob neeer ...last lin to behad khoobsoorat kahi hai ...:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. यादें तो वो दौलत है जिसके बिना ज़िन्दगी वीरान है...
    बहुत अच्छा पिरोया यादो को..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया, नीरज..अच्छी गज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  6. @Sangeeta Ji
    Bahut bahut shukriya maasi Ji... :)

    Angaaron ko ab tak jala kar rakha hai,
    Jalne ke dar se chupa ke rakha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. @Mithilesh Ji -

    Sarahne ke liye shukriya....aate rahiye ga.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. @Shabnam Ji -

    Yaadon ki daulat ko samajhne ke liye shukriya.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. @Udan Tashtari Ji -

    Bahut bahut shukriya sir... Keep coming... :)

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.