मंगलवार, जनवरी 12, 2010

पल





इक अकेली शाम से कुछ पल तेरे,
अपने लिए चुन लिए थे मैंने,
उस आधे घंटे की मुलाकात में
कई ख्वाब बुन लिए थे मैंने.

कजरारी आखों से तेरी कुछ
सुनहरे पल समेट लिए थे मैंने.
थर-थराते गुलाबी लबों से तेरे,
बिखरते लफ्ज़ चुन लिए थे मैंने.

गालों पे फैलती-सिमटती लाली को,
सहेज के दिल के पन्नों में रख लिए थे मैंने.
तेरे जुल्फों को संभालते पलों को,
इस शाम की माला में पिरो लिए थे मैंने.

इस शाम के गुज़रे पलों को मैंने,
सहेज कर, शाम की माला में पिरो के
याद की मेज़ पर रख लिया है.
न जाने ये शाम कभी लौटे न लौटे.......

--नीरज

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    Sanjay kumar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत भावपूर्ण...उम्दा रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. aweeeeeeeeeesssssom !!! bahut sunder najm hui hai.....:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. @Sanjay Ji -

    Bahut bahut dhanyavaad sarahne ke liye aur aane ke liye.... :)
    Aate rahiye ga... :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. kabhi kabhi choti si mulakaat kavita ban jati hai

    उत्तर देंहटाएं
  6. @Dimple Ji -

    Aur kavita zindagi...

    Aane ke liye shukiriya... :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ ऐसे हसीन लम्हे सॅंजो कर रखने के लिए होते हैं ..........

    उत्तर देंहटाएं
  8. @Digambar Ji -

    Aane aur saraahne ke liye bahut bahut dhanyavaad.... Aate rahiye ga.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. कितना बेबस होगा वो हर पल जब कोई अपने पुरे परिवार को अपने लिए हर पल मरते देखता हो
    और मरने से मिली आज़ादी ..............
    निशब्द हूँ क्या कहूँ
    आपकी लेखनी दिल को गहरे तक झकझोरती चली गई

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.