सोमवार, जनवरी 18, 2010

ऐ दुनिया तेरे कितने रंग ...



 

यह मेरी और मेरी मित्र वंदना की सांझी नज़्म है....




सच होता निलाम देखूं ...या झूठ के लगते दाम देखूं
ऐ दुनिया तेरे कितने रंग मैं क्या देखूं क्या न देखू

धर्म पे लगते बाजार देखूं ,संक्रमण सा फैला भ्रस्टाचार देखूं
लहराती फसल देखूं या देश में उगती खरपतवार देखूं.
ऐ दुनिया तेरे कितने रंग मैं क्या देखूं क्या न देखूं

त्यौहारों के सजे पंडाल देखूं, हर गली में मचा हाहाकार देखूं
ललाट पे सजता सिन्दूर देखूं या खून सने हाथ लाल देखूं.
ऐ दुनिया तेरे कितने रंग मैं क्या देखूं क्या न देखूं
.
नन्हे हाथों में औजार देखूं, गंगन चुम्बी मीनार देखूं
देश का विकास देखूं या भविष्य की ढहती दीवार देखूं
ऐ दुनिया तेरे कितने रंग मैं क्या देखूं क्या न देखूं

बुराई के चक्रव्यू में फसां खुद को अभिमन्यु सा लाचार देखूं .
कोरव सी सेना पर इतराऊं या अंधे की सरकार देखूं
ऐ दुनिया तेरे कितने रंग मैं क्या देखूं क्या न देखूं

सच को होता निलाम देखूं ..या झूठ के लगते दाम देखू
ऐ दुनिया तेरे कितने रंग मैं क्या देखूं क्या न देखूं


--नीरज & वंदना 

4 टिप्‍पणियां:

  1. jinda hain to sab kuchh dekhna padega,blind hain to sunna hoga.narayan narayan

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छे , क्या देखूं क्या न देखूं , मन तो सूक्ष्मतर बात पकड़ लेता है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज के हालात पर बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  4. समाज का आईना है ये रचना .......... बहुत खूब .......

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार एवं सुझाव मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तो कृपया अपने विचार एवं सुझाव अवश दें. अपना कीमती समय निकाल कर मेरी कृति पढने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.